Gangubai Kathiawadi movie review: आलिया भट्ट को आप माफिया क्वीन गंगूबाई के रूप में रियल लाइफ में इमेजिन कर सकते हैं ।

Gangubai Kathiawadi movie review: आलिया भट्ट को आप माफिया क्वीन गंगूबाई के रूप में रियल लाइफ में इमेजिन कर सकते हैं ।

Spread the love
What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0

Gangubai Kathiawadi movie

Gangubai Kathiawadi movie review:  संजय लीला भंसाली की  यह फिल्म  गगूबाई काठियावाड़ी गंगूबाई हरजीवनदास की सच्ची कहानी पर आधारित है, जिन्हें गंगूबाई कोठेवाली के नाम से जाना जाता है, जिनके जीवन को एस हुसैन जैदी द्वारा  लिखी गई  मुंबई के माफिया क्वींस पुस्तक  को लेकर बनाया गया है ।

फिल्म काठियावाड़ की एक साधारण लड़की के  माफिया क्वीन बनने के सफर को  दर्शाती है, जिसके पास भाग्य के तरीकों को अपनाने और उसे अपने पक्ष में करने के अलावा कोई विकल्प नहीं था।  आलिया भट्ट को आप माफिया क्वीन गंगूबाई  के रूप में रियल लाइफ में इमेजिन कर सकते हैं ।

‘गंगूबाई काठियावाड़ी’ को महिला सशक्तिकरण का अप्रतिम उदाहरण कहा जा सकता है. यह एक ऐसी महिला की कहानी है, जिसका प्रेमी उसे हिरोइन बनाने के सपने दिखाकर घर से भगाता है और मुंबई लाकर एक चकलाघर में बेच जाता है ।

संजय लीला भंसाली

गंगूबाई काठियावाड़ी संजय लीला भंसाली और जयंतीलाल गड़ा  द्वारा बनाई गई गंगूबाई हरजीवनदास की  बायोपिक  क्राइम ड्रामा फिल्म। फिल्म में आलिया भट्ट मुख्य भूमिका में हैं, जबकि शांतनु माहेश्वरी, विजय राज, इंदिरा तिवारी और सीमा पाहवा ने अजय देवगन के साथ एक विस्तारित कैमियो उपस्थिति में महत्वपूर्ण भूमिकाएँ निभाई हैं। कथा युवा गंगा के जीवन के माध्यम से चलती है, जो कुछ ही समय में अपने  कमाठीपुरा  की बड़ी हस्ती  गंगूबाई बन जाती है – कमाठीपुरा के रेड लाइट क्षेत्र में एक मैडम।

आलिया भट्ट के  लीड  स्टार वाली फिल्म गंगूबाई काठियावाड़ी   जिसका डायरेक्शन  संजय लीला भंसाली ने किया है  Gangubai Kathiawadi movie review हम  फिल्म के कुछ बातों जैसे  फिल्म की कहानी, स्टार कास्ट के परफॉर्मेंस, फिल्म की खास बात, फिल्म आपको देखनी चाहिए या नहीं, इन बातों को ध्यान में रखकर करने जा रहे हैं।

गंगूबाई हरजीवनदास

फिल्म की कहानी शुरू होती है  एक काठियावाड़ बैरिस्टर की किशोर बेटी और  जो देव आनंद  की बहुत बड़ी प्रशंसक  है और जो उन्हीं की तरह  फिल्मों में काम करना चाहती है और उनकी तरह के तेजी से कायापलट की दृष्टि को अपनाने के लिए  तैयार है , जो अपने प्रेमी रमणीक (वरुण कपूर) के साथ मुंबई में एक फिल्म अभिनेत्री के रूप में इसे बनाने के सपने के साथ यात्रा करता है, लेकिन एक दबंग शीला बाई (सीमा पाहवा) द्वारा संचालित वेश्यालय को  ₹1000  के लिए बेच दिया जाता है।

जहां वह तमाम जुल्म-ओ-सितम सहने के बाद मजबूरन देहव्यापार करने वाली महिला के सपने बड़े हैं. उन सपनों को साकार करने के लिए वो एक-एक कदम आगे बढ़ाती है, लेकिन जलने वाले उसे रौंदने की कोशिश करते हैं ।

उसे हैवान के हवाले कर देते हैं. उसके दिल से लेकर देह तक जख्म देते हैं. लेकिन वो हारती नहीं है. उनसे लड़ती है. इस तरह तमाम औरतों की आवाज बन जाती है, जो वर्षों से उस गुमनाम गली में घुट-घुट कर जी रही होती हैं  ।

वह मदद के लिए चिल्लाती है लेकिन  उसका चिल्लाना पूरी तरह से बेकार है । वेश्यालय मैडम उसे नरम करने और उसे काम में आसान बनाने के लिए वह सब कुछ करती है जिससे वह समझती है, लेकिन अनुभव महिलाओं को गंगा की मासूमियत से परे देखने और महसूस करने के लिए जल्दी है कि उसे धोखा नहीं देना है। वह गंगू और फिर कमाठीपुरा की निर्विवाद रानी गंगूबाई काठियावाड़ी बन जाती है।

Gangubai Kathiawadi movie review : स्टार कास्ट परफॉर्मेंस

आलिया भट्ट

जैसा कि हम सब जानते हैं बॉलीवुड के दिग्गज फिल्म मेकर संजय लीला भंसाली  हर बार बेहतरीन फिल्में  बनाकर हमारे इंटरटेनमेंट करने के लिए  मशहूर हैं. उनकी फिल्मों में शानदार सेट, डिजाइनर कास्ट्यूम, मनोहारी संगीत और बेहतरीन सिनेमैटोग्राफी देखने को मिलती है । और यह कहना को बिल्कुल भी गलत नहीं होगा कि सही मायने में अपनी फिल्मों के हीरो खुद  संजय लीला भंसाली ही होते हैं लेकिन फिल्म ‘गंगूबाई काठियावाड़ी’ में अभिनेत्री आलिया भट्ट अपनी अलहदा अदाकारी से भंसाली के निर्देशन पर भारी पड़ी हैं।

पहले से अंतिम सीन तक उन्होंने जबरदस्त अभिनय किया है. मुंबई के कमाठीपुरा की सेक्स वर्कर गंगूबाई हरजीवनदास काठियावाड़ी के किरदार में आलिया का तेवर देखकर लगता ही नहीं कि  फिल्म इंडस्ट्री में  सिर्फ पिछले 10 साल से काम कर रही है गंगूबाई के किरदार में उनका नाज-ओ-अंदाज, हिम्मत, ताकत, गुस्सा, साहस, प्यार हर भाव उनके चेहरे पर साफ नजर आता है ।

बॉम्बे के अंडरवर्ल्ड के इतिहास में गंगूबाई शायद केवल एक  नाम था जो  आम तौर पर जनता को पता नहीं था कि वह कैसी दिखती थी,  और इसीलिए हमें  गंगूबाई के कैरेक्टर के साथ  आलिया भट्ट की  शारीरिक समानता के बारे में चिंता करने की आवश्यकता नहीं है।  आलिया की एक शानदार स्टार  एक्टिंग परफॉर्मेंस की  शक्ति के साथ, आलिया भट्ट वास्तविक जीवन के  गंगूबाई को इतनी   बेहतरीन तरीके    जिंदा करने में  सफल हुई और यही बात सबसे ज्यादा मायने रखता है ।

सीमा पाहवा

सीमा पाहवा  जिसे हमने पिछले कई सालों में   ज्यादातर एक  मां ,   सास के रूप में बार-बार  देखा है  इस बार वह  अपने रेगुलर रोल से हटकर  एक नई किरदार में   सामने आई है जहां वह एक दबंग शीला बाई (सीमा पाहवा)  जो कमाठीपुरा  संचालित वेश्यालय  की मैडम है ।

अजय देवगन

माफिया डॉन, रहीम लाला के रूप में अजय देवगन का विस्तारित कैमियो है।  उन्हें फिल्में  सिर्फ चार से पांच की जगह दिखाया गया है   रहीम लाला के रूप में अजय देवगन ने  अपना बेहतरीन परफॉर्मेंस दिया है   लोगों को इस बात की कमी जरूर  खली होगी की  अजय देवगन का स्क्रीन टाइम इतना कम क्यों है।

जिम सर्भ

 sony liv की  ओरिजिनल सीरीज रॉकेट बॉयज   वेब सीरीज में बेहतरीन परफॉर्मेंस देने के बाद जिम सर्भ एक उर्दू पत्रकार के रूप में संजय लीला भंसाली की फिल्मों में दिखाई देते हैं, जो गंगूबाई के  सामने तब आता है जब  समय उसके लिए और महिलाओं का प्रतिनिधित्व  करने के लिए बहुत ही ज्यादा जरूरी था ।

जिम सर्भ फिल्में  कम समय के लिए दिखाई दिए हैं  लेकिन एक महत्वपूर्ण  कैरेक्टर के रूप में सामने आए हैं  क्योंकि अगर  वह गंगूबाई से नहीं मिलते तो  गंगूबाई  4000  महिलाओं के अधिकारों के लिए  लड़ने में  कामयाब नहीं हो पाती  ।

उर्दू पत्रकार गंगूबाई को अपनी पत्रिका की एक  कॉपी  दिखाता है तो हम देखते हैं कि वह अंग्रेजी में छपी एक पत्रिका है या कि गंगूबाई के वेश्यालय में पैदा हुए सभी बच्चे लड़कियां हैं।

विजय राज

कमाठीपुरा के अध्यक्ष पद के चुनाव में एक ट्रांसजेंडर प्रतिद्वंद्वी (विजय राज) और एक स्कूल जो उसके पीछे की गलियों और गलियों में वेश्यालयों के खिलाफ अधिकारियों को याचिका देता है।  विजय राजा अपनी हर किरदार को  निभाने में  हमेशा ही कामयाब हुए हैं  जो लोगों को बहुत ही ज्यादा पसंद आता है यहां भी हो  वह इस बार  पूरी तरह से कामयाब हुए हैं  उनका  लुक बहुत ही ज्यादा  खतरनाक और नया है जो उन्होंने इससे पहले कभी नहीं किया होगा।

राहुल वोहरा

 फिल्म अबे बहुत ही छोटा सा रोल राहुल वोहरा ने किया है जो सिर्फ,  एक छोटे से  सीन  उपस्थिति में, प्रधान मंत्री जवाहरलाल नेहरू की भूमिका निभाते हैं, जो दिल्ली में गंगूबाई को एक दर्शक प्रदान करते हैं।

शांतनु माहेश्वरी

शांतनु माहेश्वरी एक युवा दर्जी है जो गंगूबाई के दिल को  एक बार फिर से प्यार करने का मौका देता है  लेकिन वह अंजाम तक नहीं पहुंच पाता।

इंदिरा तिवारी

 कमाठीपुरा  जगह में इंदिरा तिवारी वेश्यालय में गंगूबाई की सबसे करीबी दोस्त और विश्वासपात्र कमली की भूमिका निभाती हैं। फिल्म में उनके पास सीमित दायरे के बावजूद वे सभी प्रभाव डालते हैं।

दुनिया के सबसे पुराने पेशे की महिलाएं अपना व्यापार करती हैं और नेहरूवादी समय में बॉम्बे के कमाठीपुरा में न्याय के लिए लड़ती हैं, संजय लीला भंसाली की गंगूबाई काठियावाड़ी  साल 2022 की  बेहतरीन फिल्मों में से  एक होगी।

पीरियड ड्रामा को इतनी सावधानी से गढ़ा गया है, जितना कि  उन्हें लोगों पर  उसके प्रभाव के लिए  जाना जाएगा  ना कि उसके कमाठीपुरा के वेश्यालय  कि मैडम के रूप में । नतीजा एक इमर्सिव फिल्म है जो ढाई घंटे से थोड़ा अधिक चलने के बावजूद   फिल्म लंबी  होने का एहसास नहीं दिलाती ।

गंगूबाई

वह एस हुसैन जैदी और जेन बोर्गेस के जीवन के घिनौने, बारीक, पत्रकारीय दृष्टिकोण को छोड़ देते हैं, जिस पर फिल्म आधारित है (माफिया क्वींस ऑफ मुंबई: स्टोरीज ऑफ वूमेन फ्रॉम द गैंगलैंड्स) ), आलिया भट्ट की कास्टिंग के लिए 4000 वेश्याओं की एक मुखर मातृसत्ता की भूमिका में आता है, जो एक ऐसी दुनिया में जीवित रहने के लिए लड़ रही है जहां वासना दिन-रात प्यार करती है  और जो यौनकर्मियों और उनके बच्चों के अधिकारों के लिए खुद को एक गंभीर रूप से पीड़ित लड़की से एक निडर कार्यकर्ता में बदल देती है।

इस बीच कमाठीपुरा के खिलाफ कुछ सामाजिक कार्यकर्ता बिल्डरों की शह पर विरोध प्रदर्शन शुरू कर देते हैं. वो उस जगह को खाली कराकर वहां बहुमंजिला इमारत बनाना चाहते हैं. लेकिन गंगू उनके खिलाफ जंग छेड़ देती है. सीधे प्रधानमंत्री से मिलकर अपनी समस्याओं को उनके सामने रखती है. समाज की उपेक्षित महिलाओं के लिए गंगू की सोच को प्रधानमंत्री भी सलाम करते हैं. उसका साथ देते हैं.

कई अच्छी तरह से स्थापित दृश्यों पर सवार अथक नाटक की सहायता से, जो निश्चित रूप से, भंसाली की सिद्ध विशेषता है, और उन महिलाओं के लिए एक अटूट सहानुभूति है जो एक गीत के लिए बेची जाती हैं और एक नरक में जीवन यापन करने के लिए मजबूर होती हैं। जिससे बचने का कोई रास्ता नहीं है, गंगूबाई काठियावाड़ी एक महिला के व्यक्तित्व, तप और सत्ता के लिए उल्कापिंड की चढ़ाई की एक सम्मोहक कहानी का रूप लेती है।

 

Gangubai Kathiawadi movie review : फिल्म का डायरेक्शन

  दिग्गज फिल्म मेकर संजय लीला भंसाली  हर बार बेहतरीन फिल्में  बनाकर हमारे इंटरटेनमेंट करने के लिए  मशहूर हैं. उनकी फिल्मों में शानदार सेट, डिजाइनर कास्ट्यूम, मनोहारी संगीत और बेहतरीन सिनेमैटोग्राफी देखने को मिलती है  संजय लीला भंसाली को सिनेमा का जादूगर कहा जाए तो  बिल्कुल भी गलत नहीं होगा  ।

उनको पता है कि दर्शकों को क्या चाहिए. किसी कलाकार से उसका 100 फीसदी काम कैसे निकाला जाता है, उनको बखूबी आता है फिल्म देखने के बाद आप जरूर एक संदेश लेकर जाते हैं कि हर तरह के इंसान को समाज में रहने का हक है. समाज के किसी ठेकेदार को किसी का हक छीनने का कोई अधिकार नहीं है ।

Gangubai Kathiawadi movie review : फिल्म की स्क्रिप्ट :-

 फिल्म की  स्क्रिप्ट  उत्कर्षिणी वशिष्ठ, प्रकाश कपाड़िया और संजय लीला भंसाली ने लिखी है ,  फिल्म  कई बेहतरीन  डायलॉग्स  भी सुनने मिलेंगे फिल्म में एक जगह वो कहती है, ”अरे जब ये शक्ति, संपत्ति और सद्बुद्धि तीनों ही औरते हैं, तो इन मर्दों को किस बात का गुरूर” ।

 फिल्म एक-एक कई बेहतरीन डायलॉग में से  मेरा फेवरेट एक फिल्म की आखिरी सीन से है जो मुझे बहुत ही ज्यादा पसंद आया एक सभा में लोगों को संबोधित करती हुई गंगू कहती है, ”हम दिल में आग चेहरे पर गुलाब रखते हैं. मिटाकर तुम्हारे मर्दों की भूख, हम तुम्हारा रूआब रखते हैं.” इसी तरह वो यह भी कहती है, ”शायद आपको मेरी बात थोड़ी सी कड़वी लगे, लेकिन ध्यान से सुनना, आपसे ज्यादा इज्जत है हमारे पास, पूछो कैसे? आपकी इज्जत एक बार गई तो गई, हम तो रोज रात को इज्जत बेचती है, खत्म इ च नहीं होती.” गूंग की इन बातों में कई भाव हैं. चेहरे पर गर्व है, साहस है; तो अंदर दर्द भी है।

 Gangubai Kathiawadi movie review : फिल्म का म्यूजिक :- 

संजय लीला भंसाली की फिल्मों  में बेहतरीन गानों के बिना बिल्कुल भी अधूरी है  उनकी फिल्मों में संगीत जान होती है, किस फिल्मों में 6 गाने हैं  जिसमें से कुछ गाने फिल्म ‘गंगूबाई काठियावाड़ी’ का संगीत सुस्त नजर आता है  थोड़ा सा लग रहा था कि गानों का ना होना फिल्म मे ज्यादा अच्छा होता । ‘धोलिदा’ और ‘मेरी जान’ सॉन्ग सिर्फ  फिल्म के लिए  पूरी तरह से  ठीक लगता है।  ‘शिकायत’ और ‘झुमे रे गोरी’ सॉन्ग याद रखने लायक नहीं है।

Gangubai Kathiawadi movie review :फिल्म देखें या नहीं?:-

  आलिया भट्ट की लीड रोल वाली  फिल्म में आलिया भट्ट के साथ  साथ  बहुत  सारे लोगों ने छोटे-छोटे, रोल में ही सही,  पर बेहतरीन  एक्टिंग के साथ  एक जरूरी किरदार  के रूप में राहुल वोहरा  , शांतनु माहेश्वरी और जिम सरभ  ने फिल्म में अपना अपना  प्रभाव जरूर छोड़ा है ।

कुल मिलाकर, दमदार कहानी, शानदार अभिनय प्रदर्शन और बेहतीन मोमेंट्स के लिए फिल्म ‘गंगूबाई काठियावाड़ी’ जरूर देखी जानी चाहिए.

क्या है फिल्म की कहानी

एस हुसैन जैदी और जेन बोर्गेस की हार्ड-हिटिंग बुक मुंबई के माफिया क्वींस पर आधारित, ‘गंगूबाई काठियावाड़ी’ ने गुजरात में एक छोटे शहर की लड़की से मुंबई में कमाठीपुरा की निर्विवाद रानी के रूप में गंगा की सत्ता और प्रसिद्धि का वर्णन किया है।

1950 या 1960 के दशक की शुरुआत में जब एक तारों वाली आंखों वाली और भोली-भाली गंगा को उसके अपने प्रेमी रमणीक (वरुण कपूर) ने इस वादे के साथ भाग जाने के लिए कहा कि वह उसे बॉलीवुड में एक नायिका के रूप में बनाने का मार्ग प्रशस्त करेगा। क्या पता चलता है कि गंगा (जो खुद को गंगू और अंत में गंगूबाई के रूप में फिर से नाम देती है), इसके बजाय कमाठीपुरा की नायिका बन जाती है। इन वर्षों में, कमाठीपुरा उसका घर बन जाता है, वेश्यालय की लड़कियां उसका परिवार और कमाठीपुरा का सारा क्षेत्र उसका डोमेन बन जाता है। लेकिन उनकी यात्रा चुनौतियों, विरोधियों और एक सामाजिक कलंक से भरी है जो उनके भीतर के योद्धा को सामने लाती है।

काठियावाड़ के एक संपन्न परिवार में जन्मी गंगा हरजीवनदास बॉलीवुड अभिनेत्री बनने की ख्वाहिश रखती थीं। 16 साल की छोटी सी उम्र में ही उन्हें रमणीक लाल से प्यार हो गया, जो उनके पिता के अकाउंटेंट थे। वे मुंबई भाग गए और शादी कर ली। लेकिन, उसका पूरा जीवन उल्टा हो गया क्योंकि उसने उसे कमाठीपुरा के एक वेश्यालय में 500 रुपये में बेच दिया, जहाँ उसे जबरदस्ती वेश्यावृत्ति शुरू करनी पड़ी। बाद में, वह एक शक्तिशाली वेश्यालय मैडम गंगूबाई काठियावाड़ी बन गई और उस क्षेत्र का चुनाव जीता जहां वह रहती थी (कमठीपुरा)। अपने गिरोह के एक व्यक्ति को पीटने के बाद डॉन रहीम लाला उसका शपथ ग्रहण करने वाला भाई बन गया, जिसने उसके साथ बलात्कार किया। वह महिला अधिकारों और यौनकर्मियों के समान अधिकारों की वकालत करती थीं।

Gangubai Kathiawadi movie review : बॉटम लाइन

 संजय लीला भंसाली की फिल्म गंगूबाई  काठियावाड़ी  के लिए बॉटम लाइन  यही होगा कि  फिल्म हमें बेहतरीन  डायलॉग्स ,  इंटरेस्टिंग कहानी,  बेहतरीन एक्टिंग , और  आलिया भट्ट के रूप में  माफिया क्वीन  गंगूबाई का देखने का बेहतरीन मौका  नहीं छोड़ना चाहिए  इसीलिए इस फिल्म को  5 में से 4 स्टार  मिलेगा ।

FOLLOW US ON

Leave a Reply