Kaun Pravin Tambe? Movie Review : प्रवीण तांबे की एक्स्ट्राऑर्डिनरी और दिल को छूने वाली बायोपिक हैं।

Kaun Pravin Tambe? Review : प्रवीण तांबे की एक्स्ट्राऑर्डिनरी और दिल को छूने वाली बायोपिक हैं।

Spread the love
What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0

Kaun Pravin Tambe? Review /कौन प्रवीण तांबे? मूवी रिव्यू : एक्स्ट्रा ऑर्डिनरी स्टार क्रिकेटर की कहानी जिसने कभी हार नहीं मानी।

Kaun Pravin Tambe? Movie Review श्रेयस तलपडे की लीड स्टार वाली फिल्म Kaun Pravin Tambe? Disney+ Hotstar पर रिलीज हो गई है ‘कौन प्रवीण तांबे?’  श्रेयस तलपड़े एकअसाधारण स्टार क्रिकेटर की बायोपिक का नेतृत्व करते हैं

फिल्म के लीड एक्टर श्रेयस तलपडे कहते हैं कि फिल्म के टाइटल में यूज़ किया गया प्रश्नवाचक चिन्ह / क्वेश्चन मार्क ( ?) फिल्म प्रवीण तांबे की जीवन इस बारे में है कि आप कौन हैं और आप क्या हासिल करते हैं, दोनों मामलों में तांबे के संघर्ष को दर्शाता है।

Kaun Pravin Tambe? Review /कौन प्रवीण तांबे? मूवी रिव्यू : क्रिकेट के दीवानों के लिए एक उपहार बनकर आएगी यह क्रिकेट फैंस के साथ-साथ मूवी लवर्स को भी पसंद आएगी यह फिल्म ।

खेलों की दुनिया के चैंपियन अपनी 14 -20 साल के किशोरावस्था में देश-दुनिया को चौंकाने लगते हैं और पैंतीस-चालीस के बीच अधिकांश बाहर भी हो जाते हैं. लेकिन प्रवीण तांबे ऐसा नाम है, जो उस उम्र में राष्ट्रीय मैदान में पहला कदम रखते हुए अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करता है, जब दिग्गज अलविदा कह रहे होते हैं.

यह कहानी कई लोगों के लिए प्रेरणा से कम साबित नहीं होती. यह याद रखना चाहिए कि कुछ पेड़ों पर बहार जरा देर से आती है. कुछ फूल थोड़े विलंब से खिलते हैं.

जैसा कि आप सब जानते हैं कि बिना हार्ड वर्क किए,कुछ किए बिना आपको जिंदगी में बड़ी सक्सेस नहीं मिली और यह फिल्में यही बताता है कि भले ही आपकी सफलता के लिए कितनी ही देरी हो जाए इंसान जिद ठान ले तो क्या नहीं कर सकता और फिर किस्मत भी बहादुरों का साथ देती है. यह बात अगर आप सुनते आए हैं तो फिल्म ‘कौन प्रवीण तांबे’ में इसे आंखों के आगे घटता हुआ देख सकते हैं.

अगर आप अंत तक कोशिश करते हैं , तो आपको सफलता निश्चित ही हमेशा ही मिलेगी , और जैसा कि कहा गया है कि कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती. और यही आपको डिजनी प्लस हॉटस्टार रिलीज हुई श्रेयस तलपड़े की फिल्म कौन प्रवीण तांबे में इन्हें साकार होते हुए भी देख सकते हैं.

डिज्नी हॉटस्टार पर रिलीज हुई कौन प्रवीण तांबे देखने से पहले संभव है कि आप इस शख्स को न जानें, लेकिन जानने के बाद हैरान होंगे.

1 अप्रैल को डिज्नी प्लस हॉटस्टार पर रिलीज हुई जयप्रद देसाई की फिल्म Kaun Pravin Tambe? , जिसमें 41 साल की उम्र में इंडियन प्रीमियर लीग में अपनी शुरुआत करने वाले एक्स्ट्रा ऑर्डिनरी क्रिकेटर प्रवीण तांबे के वास्तविक जीवन के अनुभवों पर आधारित है।

फिल्म की राइटर किरण यदनोपवित की स्क्रिप्ट में प्रवीण तांबे के रूप में श्रेयस तलपड़े को दर्शाया गया है। और वह उनके बखूबी निभाने में सफल हुए हैं जिन्होंने अपने सपनों हर हाल में पाने के लिए कई तरह की मुसीबत जैसे कि फाइनेंसियल प्रॉब्लम , सेल्फ कॉन्फिडेंस , शर्मिंदगी,जर्मिनेशन, फैमिली प्रॉब्लम , और रोजमर्रा की सानियावित्तीय परेशानियों से लड़ते हुए अपने सपने को पाने के लिए ले आखिरी दम तक लड़ते हुए असंभव ,इंपॉसिबल, अचीवमेंट को पाया है।

Kaun Pravin Tambe? Review /कौन प्रवीण तांबे? मूवी रिव्यू :स्टार कास्ट की परफॉर्मेंस

डिज्नी प्लस हॉटस्टार पर रिलीज हुई जयप्रद देसाई की फिल्म Kaun Pravin Tambe? के स्टार कास्ट में श्रेयस तलपड़े प्रवीण तांबे के रूप में ,आशीष विद्यार्थी प्रवीण के कोच,परमब्रत चटर्जी रजत सान्याल के रूप में,प्रवीण की पत्नी के रूप में अंजलि पाटिल,प्रवीण की मां के रूप में छाया कदम, प्रवीण के पिता के रूप में अरुण नलवाडे शामिल है ।

श्रेयस तलपडे प्रवीण तांबे के रूप में एक बेहतरीन एक्टिंग का प्रदर्शन किया है उसके बारे में यह कहा जा सकता है उन्होंने एक्टिंग नहीं की है उन्होंने जो परफॉर्मेंस दिया है वह नेचुरल है जो उन्हें एक बेहतरीन एक्टर साबित करने के लिए काफी है ।

प्रवीण तांबे के रूप में श्रेयस तलपडे का हर एक सीन फिर चाहे वह खुशी का हो या गम का उन्होंने बेहतरीन रूप से संभाला है।

बॉलीवुड के दिग्गजों एक्टर आशीष विद्यार्थी प्रवीण के कोर्स के रुप में फिल्म में शामिल है उनकी परफॉर्मेंस भी शानदार है जिन्होंने आखिरी दम तक प्रवीण के साथ नहीं छोड़ा था ।

परमब्रत चटर्जी रजत सान्याल के स्पोर्ट्स जनरलिस्ट के रूप में निभाई गई, एक बेहतरीन अभिनेता, जो लगातार प्रवीण के बारे में भद्दी टिप्पणी करने के लिए कहानी को महत्वपूर्ण मोड़ पर बाधित करता है।

प्रवीण की पत्नी के रूप में अंजलि पाटिल ने भी शानदार एक्टिंग का प्रदर्शन किया है जिन्होंने पिछले 11 सालों में 23 फिल्म अलग-अलग भाषाओं में , अलग-अलग देश की फिल्मों में काम किया है जैसे कि उन्होंने साउथ सुपरस्टार रजनीकांत के साथ काम किया है, साल 2012 में आई श्री लंकन फिल्म विद यू विदाउट यू फिल्में के लिए उन्हें भारत के 43वें अंतर्राष्ट्रीय फिल्म समारोह में आईएफएफआई सर्वश्रेष्ठ अभिनेता पुरस्कार (महिला) रजत मयूर पुरस्कार मिला

Kaun Pravin Tambe? Review /कौन प्रवीण तांबे? मूवी रिव्यू : क्या है फिल्म की कहानी

कौन प्रवीण तांबे में एक ऐसे ही निम्न-मध्यमवर्गीय मुंबईकर की कहानी कहती है. बचपन से उसका सपना है, क्रिकेट की नेशनल चैंपियनशिप रणजी ट्रॉफी में खेलना. वह मध्यम तेज गति का गेंदबाज है. बल्लेबाजी भी कर लेता है. उसे ऑलराउंडर कह सकते हैं.

प्रवीण (श्रेयस तलपड़े) क्रिकेट की धुन में भूल जाता है कि परिवार को उसके सहारे की भी जरूरत हो सकती है. बड़ा भाई उसे निरंतर आगे बढ़ने को प्रेरित करता है मगर मां को चिंता है कि कब प्रवीण जिम्मेदारी समझेगा. कब कमाएगा ताकि उसकी शादी हो सके.

प्रवीण की नौकरी भी लगती है और शादी भी होती है. वह दो बच्चों का पिता भी बन जाता है लेकिन उसका सपना पूरा नहीं होता. वह गली क्रिकेट से लेकर स्थानीय टूर्नामेंटों तक सिमटा रहता है. राज्य और देश की टीम में उसके लिए जगह नहीं बनती.

मगर वह हार नहीं मानता और पहले 30, फिर 35 और अंततः 40 की उम्र पार करते हुए भी वह अपने सपनों का पीछा नहीं छोड़ता. लगातार मेहनत करता है, सपने देखता है और एक दिन नतीजा सामने आता है. उसे आईपीएल में राजस्थान रॉयल्स के लिए खेलने का बुलावा आता है. वहां प्रवीण क्या चमत्कार करता है,

फिल्म प्रवीण तांबे की जीवन के संघर्ष को दर्शाता है।

फिल्म प्रवीण की कहानी 30 सालों से एकमात्र महत्वाकांक्षा रणजी ट्रॉफी के लिए क्वालीफाई करना है। लंबे समय तक अभ्यास के साथ बिना मेहनत वाली नौकरियों को संतुलित करने के बावजूद, ऑलराउंडर टाइम्स क्रिकेट शील्ड टूर्नामेंट में अपनी कंपनी का प्रतिनिधित्व करने के लिए अटका हुआ है।

वर्षों की तरह ट्राफियां और मिक्सर-ग्राइंडर ढेर हो जाते हैं। प्रवीण विकेट ले रहा है और अपने तीसवें दशक में अच्छी तरह से रन बना रहा है।

रणजी चयनकर्ता प्रवीण की प्रतिभा की प्रशंसा करते हैं लेकिन उनकी उम्र को देखते हैं। प्रवीण की पत्नी वैशाली (अंजलि पाटिल) उसके पागलपन से निराश हो जाती है।

कोच विद्याधर (आशीष विद्यार्थी) प्रवीण को बेहतर परिणाम के लिए अलग तरह से गेंदबाजी करने के लिए कहते हैं। अभिमानी खेल पत्रकार रजत सान्याल (परमब्रत चट्टोपाध्याय) ने प्रवीण को एक गली क्रिकेटर के रूप में खारिज कर दिया, जो बड़ी लीग के लिए अनुपयुक्त है।

Kaun Pravin Tambe? Review

Kaun Pravin Tambe? Review /कौन प्रवीण तांबे? मूवी रिव्यू :क्या पसंद आएगा आपको फिल्म में

फिल्म की कहानी कौन प्रवीण तांबे? जिसमें यह फिल्म क्रिकेट का एक बहुत ही वास्तविक अर्थ देती है क्योंकि इसे लोगों से भरे हुए वाले स्टेडियम और शानदार आईपीएल मैचों से दूर सेटअप किया जाता है । एथलीटों को रोजगार देने और उन्हें नियमित आय के साथ एक खेल को संतुलित करने की अनुमति देने में निजी कंपनियों की महत्वपूर्ण भूमिका भी सामने आई है।Kaun Pravin Tambe? Review

प्रवीण के लिए क्रिकेट एकमात्र स्थिरांक है क्योंकि वह जीवित रहने के लिए एक नौकरी से दूसरी नौकरी पर जाता है। एक कंस्ट्रक्शन कंपनी में सुपरवाइज़र के तौर पर काम करने से लेकर बार में वेटिंग टेबल तक, प्रवीण खेल में बने रहने के लिए जो कुछ भी करता है।

कौन प्रवीण तांबे? फिल्म की कहानी आपको भले ही साधारण लग सकती है , लेकिन यह साधारण कहानी लोगों के दिलों में अपनी जगह बनाने के लिए साधारण नहीं होगी , 2 घंटा 13 मिनट की इस फिल्म में कई दृश्यों को ताम्बे परिवार की कहानी , दिनचर्या , परेशानी और गतिशीलता के लिए समर्पित किया गया है। प्रवीण के कई संघर्षों का सिलसिला भी शामिल है।

फिल्म में बैकग्राउंड म्यूजिक , गाने , और लोकल लोकेशन फिल्म को एकदम नेचुरल और दिल को छूने वाली फीलिंग देते हैं।

कौन प्रवीण तांबे? मूवी रिव्यू : क्या पसंद आएगा नहीं आपको फिल्म में

अगर हम बात करें फिल्म नेगेटिव प्वाइंट के बारे में तो मेरे हिसाब से फिल्म में ऐसा कुछ भी नहीं है कि जिसके जिसे देखकर आपको यह लगा कि यह फिल्मों में नहीं होना चाहिए था फिल्म शुरुआत से लेकर अंत तक हमेशा ही आपको अगला पर क्या होगा यह देखने के लिए मजबूर करेगी ।

कौन प्रवीण तांबे? मूवी रिव्यू : फिल्म का बॉटम लाइन / खास बात

फिल्म के लिए बॉटम लाइन/ खास बात यही होगी फिल्म प्रवीण तांबे की हार्ड वर्क , कभी न हारना ना मानने वाले और जुनून की कहानी को बताती है जिसमें 41 साल की उम्र में प्रवीण तांबे का बगैर कोई प्रथम श्रेणी मैच खेले, राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटरों के साथ एक लीग में खेलना, इंसानी जिद और जुनून की कहानी है. प्रवीण तांबे की यह कहानी क्रिकेट के फैन्स को चौंकाएगी.

लेकिन सिनेमा के प्रेमियों को भी इसमें मजा आएगा. भारत में क्रिकेट और सिनेमा, इन दोनों से बढ़ कर कुछ नहीं है. कौन प्रवीण तांबे इन दोनों का बढ़िया कॉकटेल है. यह कंटेंट सिनेमा है, जिसमें एक साधारण परिवार के क्रिकेटर के जमीनी संघर्ष और उसके सपनों को हकीकत में बदलते देखा सकता है.

वह साबित करता है कि उम्र कुछ नहीं, सिर्फ एक नंबर है. जिंदगी में लगातार ऊंचे लक्ष्यों के लिए जूझने वालों को यह फिल्म, क्रिकेट की भाषा में जिंदगी का फलसफा भी बताती है, जब कोच विद्या पुलस्कर (आशीष विद्यार्थी) प्रवीण को समझाते हैं, ‘लाइफ हो या मैच, ऑल यू नीड इज वन गुड ओवर.’

Kaun Pravin Tambe? Review

Kaun Pravin Tambe?
Director – Jayprad DesaiKaun Pravin Tambe? ReviewCast – Shreyas Talpade, Parambrata Chatterjee, Ashish Vidyarthi, Anjali Patil
Rating – 3.5/5

READ ALSO – Jr NTR : RRR एक्टर जूनियर एनटीआर/Jr NTR ने कहा कि वह भी अब बॉलीवुड की हिंदी फिल्मों में काम करना चाहते हैं ।

FOLLOW US ON

Leave a Reply